Friday, 7 January 2011

शीलू प्रकरण पर सरकार को घेरने में जुटा विपक्ष

Dainik jagaran- 01 january 2011
लखनऊ, जाब्यू : यौन उत्पीड़न के आरोपी बांदा के एक बसपा विधायक को लेकर कांग्रेस और भाजपा प्रदेश सरकार को घेरने में जुट गई हैं। कांग्रेस ने इस प्रकरण की जांच हाईकोर्ट के जज से कराने की मांग की है। वहीं भाजपा ने बांदा में चार जनवरी को धरना देने की घोषणा की है। विपक्ष की मांग है कि बसपा विधायक को गिरफ्तार किया जाए। कांग्रेस अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी ने शुक्रवार को लखनऊ में पत्रकारों को बताया कि बांदा जिले में सत्तापक्ष के एक दबंग विधायक द्वारा पिछड़ी जाति की एक नाबालिग बालिका के साथ कई दिनों तक यौन शोषण किया जाता रहा। लड़की जब विधायक के चंगुल से किसी तरह छूटी और उसने परिवार को घटना बताई तो विधायक ने उसे चोरी के इलजाम में जेल भिजवा दिया। लड़की इस समय जेल में है। राजफाश तब हुआ जब बालिका के पिता ने अपनी पुत्री के साथ दुराचार होने की बात सार्वजनिक की। रीता बहुगुणा जोशी ने बताया कि वह गुरुवार को बांदा गयी थीं लेकिन जेल अधीक्षक ने उन्हें लड़की से मिलने नहीं दिया। बालिका के पिता का भी कोई पता नहीं है।

रीता जोशी बांदा के एसपी की भूमिका संदेह के घेरे में है। कांग्रेस अध्यक्ष ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मामले की जांच हाईकोर्ट के जज से कराने, बांदा के एसपी को हटाने बसपा विधायक के खिलाफ बलात्कार का मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। उधर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सूर्य प्रताप शाही ने शुक्रवार को बांदा पहुंचकर कहा कि शीलू को इंसाफ दिलाने के लिए पार्टी की प्रदेश मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति के नेतृत्व में 4 जनवरी बांदा में धरना होगा।
यौन उत्पीड़न में फंसे बसपा विधायक पर सियासत गर्म
लखनऊ, जागरण ब्यूरो यूपी के बांदा जिले में बसपा विधायक द्वारा अपने आवास पर निषाद जाति की नाबालिग लड़की का यौन उत्पीड़न करने और फिर उसे चोरी के इल्जाम में जेल भिजवाने के 19 दिन पुराने मामले ने तूल पकड़ लिया है। कांग्रेस ने मुख्यमंत्री को पत्र लिखने के साथ ही हाईकोर्ट के जज से मामले की जांच कराने की मांग की है। वहीं,भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सूर्य प्रताप शाही ने शुक्रवार को बांदा पहुंचकर लड़की के परिजनों से भेंट की। पीडि़ता से मुलाकात की अनुमति ने मिलने पर शाही जेल गेट पर धरने पर बैठ गए। भाजपा ने विधायक की गिरफ्तारी की मांग के साथ ही चार जनवरी को बांदा में धरना देने का ऐलान किया है। खासबात यह है कि 12 दिसंबर को हुई घटना के दो दिन बाद पुलिस ने पीडि़ता को चोरी के आरोप में जेल भेज दिया। विपक्षी दलों के हंगामा करने पर 29 दिसंबर को जेल में ही पीडि़ता का मेडिकल कराया। बसपा के सेक्टर प्रभारी सहबाजपुर के अच्छेलाल की बेटी शीलू हरनामपुर (मप्र) में अपने मामा के घर रहती थी, जिसे 50 हजार में पथरा के रज्जू पटेल को बेच दिया गया। अच्छेलाल ने नरैनी विधायक पुरुषोत्तम नारायण द्विवेदी की मदद से शीलू को मुक्त कराया और उसे विधायक आवास में ठहरा दिया। 12/13 दिसंबर की रात शीलू भागी। इस पर विधायक ने उस पर नकदी,कपड़े व मोबाइल लेकर भागने का आरोप लगाया। विधायक पुत्र मयंक की रिपोर्ट पर 14 दिसंबर को पुलिस ने तुर्रा गांव से शीलू को गिरफ्तार कर लिया। नरैनी विधायक उस समय कठघरे में आ गए जब शीलू ने विधायक आवास में यौन उत्पीड़न होने और चोरी का फर्जी आरोप लगाए जाने की बात कही। कांग्रेस अध्यक्ष रीता बहुगुणा जोशी ने शुक्रवार को लखनऊ में कहा, बसपा विधायक ने लड़की का कई दिनों तक यौन शोषण किया। चंगुल से छूटने पर लड़की ने परिजनों को आपबीती बताई तो उसे चोरी में जेल भिजवा दिया। जोशी ने बताया कि वह गुरुवार को बांदा गयी थीं, लेकिन जेल अधीक्षक ने उन्हें लड़की से मिलने नहीं दिया। बालिका का पिता लापता है। जोशी ने कहा, एसपी ने नियम विरुद्ध जेल पहुंचकर लड़की को प्रताडि़त किया है। कांग्रेस अध्यक्ष ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर मामले की जांच हाईकोर्ट के जज से कराने, बांदा के एसपी को हटाने, लड़की के पिता की तहरीर पर विधायक के खिलाफ बलात्कार का मुकदमा दर्ज करने तथा मजिस्ट्रेट के समक्ष पीडि़ता का बयान कलमबंद किए जाने की मांग की है। वहीं विधायक द्विवेदी का कहना है कि उन्होंने बेटी समझकर शीलू को अपने यहां शरण दी। विपक्षी दल साजिशन कीचड़ उछाल रहे हैं।

No comments:

Post a Comment